Freelance Falcon ~ Weird Jhola-Chhap thing ~ ज़हन
- Mohit Sharma (Trendy Baba / Trendster)

Thursday, July 29, 2010

वो ज़हन मे जिंदगी जीते रहेंगे!

Poem I wrote on all (popular) RC Action Super Heroes!

वो ज़हन मे जिंदगी जीते रहेंगे! -

सुनी है रात के अन्धकार मे कुत्तो की गुर्राहट ?
और कब्र पर प्रिंस की कर्कशाहट ?
या दिल्ली की छत के नीचे अपराध की दस्तक ?

महसूस किये है जासूस सर्पो के मानसिक संकेत ?
या सूचना देता कमांडो फोर्स का कैडेट ?

झेला है जंगल मे किसी निर्बल पर अत्याचार ?
या सुनी है किसी अबला की करुण पुकार ?

लिया है राजनगर पुलिस हेडक्वाटर से प्रेषित कोई आर्डर ?
या मिला है रोशन सुरक्षा चक्र के पीछे इंतज़ार करता कमिश्नर ?

जब तक अपराध होते रहेंगे,
पन्नो मे कैद ही सही,
ये सभी किरदार इंसानों मे जिंदा होकर इंसानियत के जज्बे को जागते रहेंगे.

1 comment: