Freelance Falcon ~ Weird Jhola-Chhap thing ~ ज़हन
- Mohit Sharma (Trendy Baba / Trendster)

Tuesday, December 31, 2013

A Chudail’s Love Story – मोहित शर्मा ज़हन

A Chudail’s Love story – Author Mohit Sharma (Trendster)

December 31, 2013 at 12:00 pm (Uncategorized) · Edit

*) – A Chudail’s Love story
(Mohit Sharma Trendster)
(Semi Finals Winning Entry against Author Rahul Ranjan)

Dharti ki taraf badhte hue 2 Yamdoot apne bhavishya ko lekar gehan vartalap kar rahe the.
Yamdootar – “Teri duty bhi Tadapur lagi hai, gaya beta tu. Ab overtime karta firiyo….tere tabadle ki khabar sunkar jis Apsara se tera rishta tay hua tha uske parents bhi ab uski shaadi Mr. Yamdoot 2013 se karva denge.
Waise, yaar ek baat samajh nahi aayi, finals mey to tu bhi pahuncha tha aur tere bhi dole uski takkar ke hai phir kaise haar gaya tu…Mr. Yamdoot ka muqabla….”
Yamdootesh – “Haan! Mai bhi Mr. Yamdoot ban sakta tha. Judges k anusaar to muqabla barabari ka tha phir Tie Breaker mey hum dono ki muchhon ki motai naapi gayi jisme mai aadha se bhi kum millimeter se haar gaya…bilkul photo finish type decision tha. And No way!! Mujhe overtime nahi karna. Waise aesa kya hai Tadapur mey?”
Yamdootar – “Har state mey jaise apni High Court hoti hai waise hi har rajya mey Dev Yamraj ne ek City aur uske aas-paas k gaon-dehat aesi atript aatmaon ko allot kar rakhe hai jo kisi bhi wajah se Yamdoot k saath swarg ya nark nahi jaa sakti. Tadapur mey Bharat ki sabse zyada atript aatmaon ka vaas hai. Bagal mey hi doosre rajya ka gadh Cheemapur sthit hai par wo shaant ilaka hai.”
Yamdootesh – “Haan to kya hua? Mai ek Certified Yamdoot hun, mai aesi tatpunji aatmao se nahi darta…”
Yamdootar – “Bhai, unse cooperate karke chaliyo, ek to wo atript bhoot log hai unhe chunne se kate rehte hai kuch na kuch karne ke. Din mey 2-4 galat kaam karne ki mismisi chhuti rehti hai unme. Sangathit rehne se unki shakti badh gayi hai, wo apne aage kuch nahi dekhte aadmi ho ya yamdoot seedhe baja dete hai joot hi joot.
Jab humari complaints par Dev Yamraj ka bheja koi senior Adhikari inspection k liye aata hai to ye sab bilkul Shone Babu se ban jaate hai, jaise deen duniya ka kuch pata hi nahi, un adhikariyon ke jaane k baad waapas Dhaki-chiki Dhaki-chiki Dhaki-chiki Aau.…humari deadline aur targets miss karvate rehte hai ye Shaitaan ke pille.”
Yamdootesh ka Tadapur mey aagman sukhad nahi hua tha. Dharti par aakar unhe pata chala ki jin 2 Netao ki aatmao ko wo nark le jaane aaye the unko lekar aatmao ki 2 communities mey Gang-war chhida hua hai. Jahan Pappu Pret Gang un Netao k nark jaane se pehle unhe pratadna dena chahta tha wahin Sweety Chudail Gang unhe chhupaye hue tha kyoki un 2 netao ne apne ek khaali farm house ko Sweety Chudail k naam kar diya tha. Pappu Pret apne samarthak Preton k bade dal k saath Sweety Chudail Gang Colony k bahar Bhompu lekar pahuncha.
Pappu Pret – “Yo Sweety! This is not done. Hum Pret-Chudail log padosi hai aur saath bhatakte hai in 2 netao ki to waise bhi nark mey bhat pitni hai us se pehle inhone hum pret logo k saath jo gunah kiye hai uske liye inhe 2-4 din rakh kar agar thoda sa khel le hum Pret jan to kya burai hai….aur Naspitti tu badi zubaan ki pakki ban rahi hai, le liya na Farm House inse ab dafa kar inhe. ”
Sweety – “Farm House itna bada hai, mai ek Chudail only space chahti thi jiske liye wo farm house ekdum perfect hai. Ye Neta kisi Aghori ko set karke aaye hai agar inke nark jaane tak inko bachaya nahi to har doosri jagah ki tarah wo Farm House Babban Bhoot Gang hathiya lega, Bhooton ki majority ka faayda utha kar. Wo risk mai nahi le sakti….”
Pappu Pret – “Lagta hai ab Yuddh ka samay aa gaya hai. Mai shapath leta hun ki jab tak un dono Neta Aatmao k dhar k joot nahi bajaunga aur saath mey har Chudail ki chuttiya nahi fhaaddunga, eye brow nahi noch lunga..tab tak chain se nahi bhatakunga….Preton! Phatt de Chadde…Oh! Sorry…Chak de Phatte!!!”
Sweety Chudail kisi wajah se chup thi aur ek boring Test Ballebaaz ki tarah baaton aur Chill Poo mey Preton ka time nikal rahi thi.
Ye nazara thodi door se dono Yamdoot aur nishpaksh Babban Bhoot Gang k members dekh rahe the.
Yamdootesh – “Oh no! Aese to hum un 2 Netao ko le jaane mey late ho jaayenge aur agar Sweety Chudail ne yuddh ka elaan kar diya to yahan arajakta faail jaayegi. Mujhe unhe rokna hoga….”
“Lagta hai yahan naye aaye ho…Tadapur mey late hone ki aadat daal lo!”
Yamdootesh – “Aapki taareef?”
“Bada jigra hai re….Babban Bhoot ki taareef puchhne waalo ki tashreef kaat di jaati hai. Par teri himmat se hum khush huey. Aa baith…arre baith jaa, abhi nahi lad rahe ye dono gangs. Sweety Gang ki Chudailen paas k kasbe mey Ladies Sangeet mey gayi hui hai, aane mey thoda time lagega. Nahi to abhi tak ho gaya hota inka Commonwealth. Arre Sharma! Iske liye Bhaang ki pakodiyan aur Dhature ka juice lekar aao…”
Yamdootesh – “Mai nasha nahi karta.”
Babban Bhoot – “Arre ek jaam to dushman k saath bhi lagaya jaata hai Darling…”
Yamdootesh – “NAHI !!! Mere kuch usool hai…”
Babban Bhoot – “O Kaka ji! Ye Aadarshvaad ki peepni kahin aur bajaiyo….Natthu! Shake the Babla!”
Babban k ek ishare par Bhooton ki toli ne Yamdootesh ko zabardasti Dhature ka Juice pilaya, Bhaang ki pakodiyan khilayi aur smack ke injections lagaye.
Babban Bhoot – “Haaye thandak si mil gayi ! Sachche, Saaf Dil logo ke usool, aadarsh, pratigya tudvaane ka jo maza hai na wo Eucalyptus par ulta latakne mey bhi nahi hai. Yamdootar samjhao apne dost ko…agar ye beech mey padkar unki ladai rukva dega to unke gang kamzor kaise honge? Inki aapas ki ladai mey 10-12 Pret-Chudail ki punchh kate, 2-4 Apahij hon tab hi to humara gang aur mazboot hoga. Nothing personal, you see politics hai hi aesi cheez.”
Yamdootesh ne nishchit Pret-Chudail yudh ko rokne k liye Dev Yamraj k khaas Sahayak Dev ko emergency  call lagayi jo turant apne Yamdooto ki toli ko lekar haazir ho gaye. Aese signals har aatma ko dikh jaate the aur hamesha ki tarah sthiti bhaamp kar sabhi atript aatmayen ‘shona babu’ mode mey aa gayi. Nazara dekh Sahayak Dev Yamdootesh par baras pade.
“Mujhe aapse aesi apeksha nahi thi Yamdootesh! Dekho kitne bhole bhoot, pyaare pret aur cute chudail hai ye sab. Mai to kehta hun ki Mrityulok mey pure innocence kahin hai to wo…..Yahin hai! Yahin hai! Yahin hai!
Masoom, nireeh aatmaon ko pata nahi kyu yahan niyukt hue Yamdoot yun hi badnaam karte hai. Abhi mai in 2 netao ko nark le jaata hun par aage se bina kaaran humey yun bulaya gaya to aap ghor dand aur shaap k bhaagi banenge. Ab hum chalte hai. Bam Bam Bholey!”
Pappu Pret – “Sampail aur Pampail. Jaiye aap log escort kijiye Sahayak Dev ki toli ko. Aajkal zamana bahut kharab hai.” *winks*
Pappu Pret ka ishara samajh Preton ki toli se Pampail Pret aur Sampail Pret, Sahayak Dev k kaafile se sat gaye aur poore raaste bhar Yamlok k dwaar tak dono netao ko saavdhani se rath ki aad lekar ghunse, laat pelte chale gaye.
Idhar Sweety aur Yamdootesh k naina char ho gaye the.
Babban Bhoot – “Yaar! Yamdootar le jaa isko, mai tere dost k ghusand hi ghusand bajaye chala jaunga. Abhi apne senior se daant khaayi hai par sudhra nahi….gandi soch!”
Yamdootesh ko beech mey dakhl dene ki penalty k roop mey usko allot hua quarter Bhooton ko dena pada aur wo Yamdootar k quarter mey shift ho gaya.
Ab wo apna kaam anmane tareeke se karne laga aur udaas rehne laga. Sweety se bhi Yamdootesh k affair ki khabar har taraf thi jis baat se Babban Bhoot, Pappu Pret naraaz the. Ek din wo Yamdootar ko bina bataye vacation par chala gaya. Apne dost k liye Yamdootar ne overtime kiya aur seniors ko bhanak nahi lagne di kuch din. Aakhirkaar, Yamdootesh kaam par lauta par wo kahan gaya tha ye nahi bataya.
Sweety bhi Yamdootesh k waapas aane se khush thi. Ab wo dono chhup-chhup kar milne lage. Ek din aese hi Sweety ki godi mein Yamdootesh sar rakh kar leta tha.
Sweety – “….Ye devlok ka fabric kitna smooth hai, mere liye bhi mangwa do thoda. Tumpar purple dhoti suit karti hai, skin tone k according bahut dashing lagte ho usme. Aur please jab kisi aatma ko pakda karo le jaane k liye, to Gada side mey mat daba kar chala karo awkward lagta hai jaise koi Cricketer out hokar jaa raha ho.”
Yamdootesh – “Alright Janu! jaisa tum kaho. Kitni care karti ho tum meri. Thanks! You know what mai waapas kyu aaya….just because I feel poor when I don’t have your presence…”
Sweety – “Awwwww tumhari aawaz mey Janu kitna cute lagta hai.…aur Please please please tumhari eye brows bahut thick hai please threading karva liya karo kuch weeks mey, koi issue ho to mai kar dungi. Don’t be conscious na…Aajkal ladke bhi karva lete hai.”
Idhar ek Tantrik Yoman Baba ne Tadapur mey pravesh kiya jinka udeshya zyada se zyada aatmao ko mukti dilvana tha. Kai aatmayen aesi thi jinko shaanti k liye manviy roop se kuch jatan karne padte jaise koi apne ghar ke peeche naale ki zameen mey dhan gaad gaya tha apne parivaar k liye par achanak maut se kisi priyjan ko bata nahi paaya, ya kisi ki beti ka padosi k saath affair tha par ye pata chalte hi usko heart attack aa gaya aur unka affair chalta raha, apne padosi aur beti ko saza dene k uske armaan dhare reh gaye upar se jo baat sun kar usko heart attack hua wo uske marne k baad jaari thi….aese hi kai aur adhuri bhautik baaton aatmao ko atript bana diya tha.
Yoman Bana dheere dheere aese bhautik kaamo ko niptane lage aur kuch samay baad adhiktar atript aatmao ke bhautik bandhan toot gaye par ab bhi aatmao ki poorn mukti k liye unke gadh mey Amavas k ratri pahar mey ek maha-hawan baaki tha. Kuch aatmao k case hopeless the unhe kabhi mukti nahi mil sakti thi jaise kisi aatma ne kisi Raja ki poori kaum ko khatm karne ki pratigya lit hi par baad mey pata chala ki us Raja ki 400 se adhik anaitik santaane thi jinki apni kai santane ho chuki thi aura lag alag disha mey kai peedhiyan chal padi thi. 1-2 logo ki baat hoti to pehle Aghori reh chuke Yoman Baba khopche mey leke mundi marodne mey koi gurej na dikhate par baat yahan hazaro lakho logo ki thi. Santosh ki baat ye thi ki aesi hopeless aatmao ki sankhya kum hi thi. Yoman Baba k maha-yagya manshaon ki bhanak Bhooton, Preton aur Chudailon ko ab tak lag chuki thi. Prabhavshaali netao ko darr tha ki itni sankhya aatmao ka mukt ho jaana unke varchasva par prabhav daal sakta hai isliye unhone Yoman Baba ko molest karte hue Tadapur se khaded diya.
Unhe ye bhi pata chala ki itne din jo Yamdootesh gayab tha uska prayojan in Yoman Baba ko Tadapur laana tha. Yamdootesh ki phir se haaziri hui sanyukt sabha mey.
Yamdootesh – “Haan, bulaya maine Yoman Baba ko par mujhe laga tum logo ko shaanti milegi to us se khush hoge. Nahi chahiye shaanti to koi baat nahi. Mujhe aur punish mat karo, mai ab tum logo ki dincharya, ratricharya mey koi interfere nahi karunga. Jo marji aaye karo…”
Idhar Yamdootesh scene se gayab ho gaya aur usko Tadapur aur Cheemapur ki seema par sthit ekaant mey, No Man’s Land….No Ghost’s Land mey dekha jaane laga. Ab Yamdootesh ka Sweety se milna bhi bahut kum ho gaya. Yamdootar ne apne saathi par bilkul giveup kar diya tha.
Sweety ne ek din Yamdootesh ko ek khoobsurat Soni Chudail ke saath hangout karte dekh liya. Sweety aur Yamdootesh mey zabardast jhagda hua aur Sweety ruth kar chali gayi. Idhar Babban Bhoot aur Pappu Pret ka dil bhi Soni Chudail par aa gaya. Cheemapur mey bhi 2-3 prabhavshaali Bhoot, Pret pehle se hi Soni k deewane the. Pappu ne apne prabhav se Soni ko pana chaha par ye divya niyam tha ki bina vivah k doosre rajya ki seema mey pravesh nahi kiya jaa sakta, sirf No Ghost’s Land se koshish ki jaa sakti hai. Yamdootesh k charm se jealous Pappu, Babban ne usey Soni k Swayamvar k liye challenge kiya jo baat sun seema k doosri aur k bade Bhoot, Pret bhi aa gaye.
Soni k swayamvar k liye aagami amavas ki raat yaani agli hi raat nirdharit ki gayi jisme shakti, charisma, dance, singing gigs aadi pratiyogitaon mey dono rajyo k kuch Bhoot, Pret aur Yamdootesh mey muqabla hona tha. Ye aayojan Tadapur aur Cheemapur ki seema par hona tha jisko dekhne k liye dono taraf ki atript aatmao ki bheed lag gayi. Saathi Yamdootar ne Yamdootesh ko chaitavni di ki agar wo Chudail se shaadi par ada raha to wo high command shikayat kar usko suspend karva kar inhi atript aatmao ka ek saath banva dega. Par Yamdootesh par koi asar nahi pada.
Muqable hote gaye aur har muqable mey Yamdootesh jeetta raha. Idhar apne hero ko kisi aur ko pane k liye inti intensity dikhate hue Sweety ka dil ro raha tha. Wo apna Chudail gang lekar wahan se ud chali. 
Yamdootar ne bhi apni shikayat darj ki jiska review Amavas mey adhik shaktishaali huyi duniya bhar mey aatmao ki shaitaniyon ki wajah se abhi pending tha aur karyavahi swaroop  Sahayak Dev ko aane mey abhi kuch ghante lagne the.
Yamdootesh – “Kyu be Babban, Pappu…badi mismisi chhuti rehti hai, supporters ki bheed mey Vidhayako waala style maarte ho, bheed ki aad mey to bade laat-ghunse chalate ho. Ab aao one on one….na tum dono ki poonch kaat di to mera naam Yamdootesh nahi Kaddukesh.
Kaafi der tak chale muqablon mey sabhi maamlo mey Yamdootesh ne bade margin se comprehensive victories darj ki.
Aakhir mey jab varmala dalne ki baat aayi to Soni Chudail ne Cheemapur k ek Bhoot k gale mey varmala daali. Sab achambhit the ye kya hua. Ye khabar Khabri Chudail ne Sweety ko di to wo bhi kotuhal mey waapas venue par aa pahunchi.
Yamdootesh ne announcement kiya.
“Aaj Amavas ki raat jab aatmayen sabse adhik shaktishaali hoti hai us din bhi apna poora zor laga kar Swayamvar mai jeeta hun sirf apne prem se mili prerna ki wajah se par wo Swayamvar Soni k liye nahi tha, mera Swayamvar to Sweety k liye tha.”
Peepal par ulti latki achambhit, avaak Sweety dhadaam se zameen par giri.
“Ye sab ek natak tha jisme mere saath Cheemapur ki achchhi aatmayen shaamil thi. Unse milkar mujhe pata chala ki atript aatmayen hamesha huddangi ya bawaali nahi hoti balki achchh ibhi ho sakti hai bas unke neta aur disha nirdesh karne waali badi aatmayen achchhi honi chahiye. Soni ki pehle se hi shaadi ho chuki thi aur usne apne pati k gale mey hi varmala daali. Sweety ko bhi maine ye plan late bataya. Ab jab mai aap sabko sambodhit kar raha hun to bata dun ki Yoman Baba phir se Tadapur ki seema mey hawan kar rahe hai aur mere mic par swaha bolte hi wo poorn aahuti denge jis se aapme se adhiktar aatmao ko mukti mil jaayegi….. Yoman Baba Swaha!”
Isi k saath kai aatmayen aakash mey vileen ho gayi. Bas kuch Bhoot, Pret Neta aur Sweety samet kuch Chudailen bach gayi.
Babban Bhoot – “Par….humne to Tadapur mey jagah-jagah apne guard Bhoot-Pret chhode the kisi aapatkaaleen baat k liye….”
Yamdootesh – “….wo beech mey uth k jo Sweety Gang gaya tha wo kya ladies sangeet karne gaya tha? Kuch se to Yoman Baba khud nipat liye aur kuch ko sula diya Sweety & Company ne. Aur Ab zara tameez mey rehna 5-7 bache ho total usi style mey joot hi joot bajaunga jaise tum kabhi bajate the.”
Yamdootesh ne Yoman Baba ko Babban aur Pappu ko peetne, molest karne ka poora mauka diya. Phir unka dhanyavaad kar unko vida di. Inspection karne aaye Sahayak Dev eksaath itni aatmao ki mukti se khush dikhe par unhe verify karna tha ki kya Yamdootesh ne kisi Chudail se Shaadi ki hai.
Wo Tadapur mey bachi 4-5 Chudailon ki neta Sweety se mukhatib hue.
“Kya Yamdootesh ka kisi sthaniye ya videshi Chudail se chakkar chal raha hai? Kya wo aapki taraf aakarshit hote hai?”
Sweety Chudail – “Aapko galat soochna mili hai. Yamdootesh bahut hi kartavyaparayan Yamdoot hai. Itni aatmao ko shaanti pahuchane ka poora shrey unhi ko jata hai. Kuch prabhavshaali Bhooton ke dabaav mey wo sandesh aap tak gaye the. Waise bhi hum badsurat Chudailon ki aesi kismet kahan jo hum unhe paa saken…”
Ye sun Yamdootesh bhavuk ho gaye.
Sahayak Dev samanya sthiti dekh Yamdootar ko warning dekar chale gaye.
Sweety Chudail – “Prem karne se pehle duniyadaari ki sudh nahi rehti aur jab duniyadaari ki sudh aati hai tab tak prem ho chuka hota hai. Mujhe pehle hi pata tha ki humara milan nahi ho sakta par mai to pehle se hi atript hun isliye adhoori aankanshaon ki aadat hai Sweety ko. Tumhe door se hi sahi prem karti rahungi….”
Uske baad anya rajyo ki tarah Tadapur mey bhi vyavastha dharre par aayi aur wahan ki is doosri duniya mey bhi shaanti aayi.

Sunday, December 29, 2013

Indian Comics Fandom Awards 2013

Screenshot - Best Artist Category.

- Indian Comics Fandom Awards 2013, A successful event involving many artists-authors & fans 4 days. 

Duration : 24 December 2013 - 28 December 2013

Partners - Freelance Talents, 421 Brand Beedi Fedeartion

Online public poll based award where the website needed a social id & blocked same IP voting. Over 120 nominations in 8 categories & thousand of votes in total. Personally, witnessed extraordinary love in the hearts of many for my work & as a result begged most nominations, 3 Golds & a Bronze in the event. 


*) - Best Cartoonist  
1. Vishnu Madhav
2. Kajal Kumar
3. Rahul Sharma & Prakash Bhalavi (tie).
*) - Best Comics Collector 
1. Sanjay Singh
2. Mohnish Kanojia
3. Sushant Mittal
*) - Best Blogger 
1. Mohit Sharma++ 
2. Kapil Chandak 
3. Sanjay Singh
*) - Best Fan Artist 
1. Jyoti Singh 
2. Saket Kumar 
3. Sumit Sinha
*) - Best Fanfic Author 
1. Mohit Sharma++
2. Soumya Das 
3. Saurab Mehra
*) - Best Colorist 
1. Inder Jeet Bhanoo 
2. Dheeraj Dkboss Kumar 
3. Abhishek Gautam
*) - Best Reviewer/Critic 
1. Youdhveer Singh
2. Ajay Dhillon 
3. Mohit Sharma

++As a Organizer Award Shared with Silver Medalist.



*) - ICF Hall of Famers (2013) 
Fenil Sherdiwala, Youdhveer Singh, Mohit Sharma, Ajay Dhillon.

Promo Artwork by Mr. Ashish Khare.

Saturday, December 28, 2013

January 2014 - Roobaru Magazine


A Chirt Thitholi Cartoon & little contribution in the cover story of January 2014 issue. Magazine on stands now!

Best Author - Indian Comics Fandom Awards 2013


Wrote a lot of fan fic on Indian Comic Characters on various websites and finally got the reward for it in Indian Comics Fandom Awards 2013.


Total Votes - 308

Hall of Fame - Indian Comics Fandom 2013


Top 4 nominated candidates were chosen in a public poll, Total Votes - 113

Best Reviewer-Critic (Bronze) - Indian Comics Fandom Awards 2013

 
Best Reviewer-Critic (Bronze) - Indian Comics Fandom Awards 2013.

Best Blogger - Indian Comics Fandom Awards 2013

 

 Total Votes - 350, least number of nominations in this category. Poll hosted on Opinionstage.com 

Monday, December 23, 2013

Wednesday, December 11, 2013

Meet Bhakt Bunny - Indian Cousin of Bugs Bunny!

Meet Bugs Bunny's cousin from India & my lovely (but angry) friend....Bhakt Bunny!!  

A Hindu Extremist Rabbit. Jai Santoshi Maa! 

*Don't worry its not blood vermillion tilak. 


 

Saturday, December 7, 2013

Comics Fest India 2013 Logs

Inaugural Comics Fest India 2013 (30 November & 1 December 2013)

Highlights
*) – Meeting creatives & die hard comic fans.
*) – Comics Fan of the year Award
*) – Special Contribution Award
*) – Acts, Plays with Shiva ji Aryan, Akshay & Prahlad.
*) – Variety of Comics…new, rare, exclusive….











#mohitness #shivajiaryan #trendybaba #akshay #prahlad #trendster #mohit

Friday, November 15, 2013

Mohitness @ FIDE World Championship 2013



Tune into DD Sports now as Chess Grand Masters Tania Sachdev, Lawrence Trent, Susan

 Polgar, Ramachandran Ramesh are answering my questions LIVE during the commentary

 of ongoing FIDE World Chess Championship 2013 between Vishwanathan Anand & 

Magnus Carlsen. #FWCM2013 #AnandCarlsen #Mohitness #TrendyBaba #Interview


You can read the questions here - https://twitter.com/Trendy_Baba_

- Mohit Sharma (Trendster)

Jerry India Tour & Deadly Deal Update



Jerry Bhaiya ka India Tour

- Mohit Sharma, Atharv Thakur & Youdhveer Singh

Upcoming Project - Deadly Deal (with Artists Kuldeep Babbar & Atharv Thakur)


Wednesday, November 13, 2013

सावन vs. Bridal Makeup – Poet Mohit Sharma (Trendster)

सावन vs. Bridal Makeup – Poet Mohit Sharma (Trendster)

October 10, 2013 at 11:21 am (Uncategorized) · Edit

*) – सावन vs. Bridal Makeup
 
(Mohit Sharma Trendster)
 
 
 
*) – Freelance Talents Championship (Round 2 Winning Entry) against poetess Savita Agarwal
Love par kaafi kum likha hai, ye tab realize hua jab kum samay mey kuch ideas soche par jo dil ko pasand aaye wo abhi share nahi kar sakta isliye ye entry de raha hun. Mujhe pata nahi ye experiment aap logo ko kaisa lagega par ummeed karta hun pasand aaye.
Ek premika pardes gaye apne Premi k intezaar aur yaad mey hatash ho gayi hai. Apni pehle ki zindagi aur ab samaj ke taano aur bandishon se nark ban chuki zindagi ki dastaan sunati wo ladki ub kar aatmhatya karne ke liye apne ghar ke chhat par khadi gungunati hai aur tabhi neeche uska premi waapas aa jata hai…
—————————————
सावन से रूठने की हैसियत ना रही।
सख्त शख्सियत  अब नहीं लेती अब मौसमो के दख्ल
अक्सर  आईने बदले  अपने अक्स की उम्मीद में … 
हर आईना दिखायें अजनबी सी शक्ल।
अपनी शिनाख्त के निशां मिटा दिये कबसे …
बेगुनाही की दुहाई दिये बीते अरसे ….
दिल से तेरी याद जुदा तो नहीं !
मुद्दतों तेरे इंतज़ार की एवज़ में वीरानो से दोस्ती खरीदी,
ज़माने से रुसवाई के इल्ज़ाम की परवाह तो नहीं !
सावन से रूठने की हैसियत ना रही।
रोज़ दुल्हन सी सवाँर जाती है मुझको यादें ….
हर शाम काजल की कालिख़ से चेहरा रंग लेती हूँ ….
ज़िन्दगी को रूबरू कर लेती हूँ …
कभी उन यादों को दोष दिया तो नहीं …
सावन से रूठने की हैसियत ना रही।
इज़हार रे याद,
हाल ए दिल बयाँ करना रोजाना अमल लाये,
कैसे मनाएँ दिल को के आज तुम सामने हो …
रोज़ सा खाली दिन वो नहीं …
उस पगडंडी का सहारा था,
वरना रूह ख़ाक करने में कसर न रही ….
ज़हर लेकर भी जिंदगी अता तो नहीं ….
सावन से रूठने की हैसियत ना रही।
इल्जामो में ढली रुत बीती न कभी,
जाने कब वो मोड़ ले आया इश्क …
बर्दाश्त की हद न रही।
अरसो उनकी बदगुमानी की तपिश जो सही ….
सरहदें खींचने में माहिर है ज़माना,
दोगली महफिलों से गुमनामी ही भली ..
खुद की कीमत तेरी वरफ़्तगी से चुनी …
जिस्म की क़ैद का सुकून पहरेदारों का सही …
ख्वाबो पर मेरे बंदिशें तो नहीं …
सावन से रूठने की हैसियत ना रही।
Premika ki emotional ghazal sunkar Premi se raha nahi gaya aur wo neeche se chillaya…
Tera Bridal Makeup !!
Yo! Alpha to Charlie..Come on! Peeps!
Everybody! Alpha to Charlie..
Ladki ke Bridal Makeup ne meri maar li !!
Maine aesi shayari apni life mey suni na kabhi…
Sach-sach bata itni urdu tune kahan seekhi?
Tujh par niyat fisalne waalo mey mai pehla banda to nahi..
Shake that Boomba…
aur jama de Dance floor par tutak-tutak dahi..
Eye lashes ke neeche dab gaye darjan,
Mehndi ne teri kiya traffic diversion..
Teri backless k complex mey mar gayi padosan,
Curves k speed breakers ne kar di life slow motion.
Mera jagrata karva gaya,
Mujhe Uncle Perv banva gaya,
Mera Dhumr-paan chhudva gaya,
Shervani jalwa gaya…
Road Rage kya Hit-n-Run…public marva gaya,
O Tera Bridal Makeup..
Dange bhadkata,
Tractor ladvata,
Launde pitvata,
Bhaiyo se Bandook Chalvata,
Galiyon mey Border banvata…
Qatil tera neckless..
Uspar teri low-cut neck dress…
Room nahi..Mujhse Hotel book karva gaya…
O TERA BRIDAL MAKEUP!!
Nail Paint ne utha diye kitne tapasvi-saints,
Ek tera exotic scent,
Digaye jo dharm-karm,
Ban gaya tera mohalla hi auditorium
Meri khade-khade marva gaya…
..Re Tera Bridal Makeup…
 Dil ne skip ki beat..
Current wala jhatka tera Boombastic..
Sensuous teri bindiya kangan,
Pandit ji maangna bhool gaye shagun..
Abe shaadi karegi ya suicide mission ?
Tour-de-Dehat chalva gaya,
Dosto ko dushman banva gaya,
Dhoomketu talva gaya…
Tera Bridal Makeup !!
Shake that Swahaa…
Premika neeche aayi, kuch cheezen hui jo hoti hai aur kahani ki happy ending hui!
Samapt! 

Tuesday, November 5, 2013

Roobaru Duniya November 2013 (Cover Story)


The cover story is on Men's Rights & related issues. (2 articles) On stands now! E-magazine available on magazine website & allied networks.

पुरुषों से सौतेला मीडिया

मीडिया की पुरुषों से खुंदक पुरानी है, क्योकि पत्रकारिता में सबसे आसान काम निंदा करना या कोसना है। इसको आप ऐसे लीजिये जैसे ओलिंपिक में हमारे अख़बार देश के किसी खिलाडी के अंतिम आठ में आने को भी को बड़ी कवरेज देते है और बाकी देशो को तालिका में छोटा सा कोना मिलता है। जब तुलना होती है तो पुरुष-स्त्रियों में यह अपनेपन का बर्ताव स्त्रियों से जुड़े मामलो में होता आ रहा है। अब जब इतनी संस्था, उत्पाद जुड़े महिलाओं से तो पत्रकारिता और मनोरंजन के दुसरे माध्यमो पर भी इसका असर हुआ। ख़ास महिलाओं के लिए कॉलम्स, पत्रिकाएँ, रिपोर्ट्स, टेलीविजन शोज़, जर्नल्स, पुरस्कारों की संख्या हजारो-लाखो में है जिनके लिए पुरुषों से सम्बंधित हर पहलु को कोसना पहला नियम है और पुरुषों के मुद्दे अछूत है। ये अनुपात दस और नब्बे का नहीं है, बल्कि ये अनुपात है ही नहीं, इस लेख की तरह गाहे-बगाहे कुछ आ गया तो वो इतने विशालकाय समाज में ना के बराबर है। जो आप बार-बार देखेंगे, पढेंगे तो उसका लाज़मी असर आपकी सोच पर भी होगा। एक तरफ की समस्या आपको विकराल लगेंगी और एक तरफ की हास्यास्पद, गौर ना करने लायक। 

मसलन जानलेवा प्रोस्टेट कैंसर केवल पुरुषों में होता है और उस से होने वाली मौतें लगभग उतनी ही होती है जितनी स्तन कैंसर से होती है। स्तन कैंसर पर जागरूकता के लिए सरकार, निजी कंपनियों द्वारा पोषित कई तरह के जागरूकता अभियान चलाये जाते है, शिविर लगाये जाते है, फंड्स जुटाए जाते है वहीँ प्रोस्टेट कैंसर के लिए कुछ नहीं किया जाता। क्यों? क्योकि वो तो पुरुषों को होता है और एक पुरुष की मौत या दर्द किसी के लिए कहाँ मायने रखता है? शायद पढ़ रहे पाठको में से कईयों ने प्रोस्टेट कैंसर का नाम भी पहली बार सुना होगा। यही हाल दूसरी चिकित्सीय सेवाओं और सोच का है, जैसे किशोरावस्था में आ रहे बदलावों की काउंसलिंग मुख्यतः लड़कियों तक सीमित रहती है। लडको को समझाना ज़रूरी नहीं समझा जाता जिस वजह से कुछ किशोर गलत लोगो या साधनों में आकर गलत कामो को स्वाभाविक और सही समझकर उसी रूप मे ढल जाते है। 

मीडिया का पक्षपात यहीं तक सीमित नहीं रहता। तोड़मरोड़ कर अधूरी बातों के उदाहरण देखते है। कितना बुरा लगता है जब सुनते है की भारत में हर 3 मिनट्स में एक महिला के साथ कोई अपराध होता है, क्या कभी आपको ये बताया गया की उन्ही 3 मिनट्स 6-7 पुरुष भी जघन्य अपराध का सामना करते है, अधिकतर वो पुरुष जो सामान्य जीवन जीते है और जिनका आपराधिक रिकॉर्ड नहीं होता। क्या कभी इस दिशा में कुछ किया गया? क्या कभी ये सुनकर आपकी मुट्ठी वैसे भिंची जैसे तीन मिनट्स में एक महिला पर अपराध सुनकर भींच जाती है?  एक गधे और इंसान की तुलना की जायेगी तो हज़ार में 15-20 बातों की तुलना में एक गधा भी इंसान से बेहतर निकलेगा। तो क्या पुरुषों और महिलाओं की तुलना मे कई बातों में आदमी को औरत पर प्राकर्तिक बढ़त नहीं होगी? पर इतने सारे सर्वे, रिसर्च डाटा में जनता के सामने सिर्फ वही तथ्य क्यों आते है जिनमे महिलायें पुरुषों से बेहतर हों? याद कीजिये आपको किसी भी बड़े सार्वजनिक सूचना साधन से ऐसी खबर मिली हो जिसमे तुलनात्मक आदमी आगे हों। शायद नहीं मिली। क्या समाज इतना रक्षात्मक बन गया है की ऐसी तुलना जो स्त्रियों के विपरीत आये वो भी पक्षपात है? 

जैसे कुछ अनुसंधानों के द्वारा पता चला की दर्द सहने की क्षमता स्त्रियों मे पुरुषों से अधिक होती है, जिसको अलग अलग मीडिया माध्यमो से प्रचारित किया गया। साथ ही इंटेलिजेंट कोशिएंट यानी बोद्धिक स्तर के मामले में हुए अनुसंधानों में एक औसत पुरुष को एक औसत महिला से कुछ पॉइंट्स ज्यादा प्राप्त हुए पर क्या ये नतीजे उस स्तर पर प्रसारित हुए? यहाँ भी इस बात को नारी जाती के अपमान की तरह लिया गया को भेदभाव का चोगा ओढ़ा कर आया-गया कर दिया गया। एक समाजसेवी संस्था द्वारा आयोजित पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम में स्कूली बच्चो द्वारा भाग लिया गया। अगले दिन अखबारों में "गर्ल पॉवर" नाम से कॉलम में प्रतिभागी छात्रों के फोटो और संक्षिप्त साक्षात्कार थे और छात्रो की संख्या भर लिख दी गयी, यानी जहाँ ज़रुरत नहीं होती  वहां भी ज़बरदस्ती ऐसे कोण ठूसे जातें है। सांख्यिकी और गढ़े गए तथ्यों का गलत इस्तेमाल भी बड़े स्तर पर होता है। पुराने मुद्दों के प्रचार में जब सेचुरेशन आने लगा तब  कोई नयी चौकाने वाली खबर बनाने के लिए भारत से कुछ संगठनो ने ये खबर फैलाई भारत में हर साल 25000 से ज्यादा स्त्रियाँ सती प्रथा कुरीति की भेंट चढ़ती है। विदेशो में इसकी निंदा हुयी पर किसी ने इसकी प्रमाणिकता की जांच नहीं की। असल में यह सामाजिक कुरीति अब भारत से लगभग विलुप्त हो चुकी है जिसपर कड़े कानून है, हिन्दू ग्रंथो में भी कलियुग में इस प्रथा को नहीं करना लिखा है और कुछ सालो में इक्का-दुक्का मामला होता है। यानी संस्थाओं ने पैसे और नाम के लालच में एक तथ्य को हजारो लाखो गुना बढ़ा कर रख दिया और सब इस पुरुषप्रधान समाज पर चढ़ बैठे बिना जांचे। इसमें मीडिया साधनों का भी बराबर का दोष है। साथ ही 2011 की जनगढना में लिंगानुपात 933/1000 से 940/1000 बढ़कर हुआ और एक दशक में की 125 करोड़ आबादी वाले देश में ये 7/1000 की वृद्धि किसी चमत्कार से कम नहीं है पर अगर आप चाहो की हजारो सालो से हुआ अंतर कुछ दशको में मिट जाए और हर बार जनगढना के बाद अंतर को रोते रहो तो वो संभव नहीं। 

यह तो बस कुछ उधाहरण भर है। ऐसा कदम-कदम पर होता है, कोई भी मीडिया साधन देख लीजिये चुनिंदा ख़बरें जहाँ अक्सर सिर्फ एक पक्ष को रखा जाता है और दूसरे पक्ष के अस्तित्व को नकार कर फैसला सुना दिया जाता है।  मै मीडिया पर इतना जोर दे रहा हूँ क्योकि इस स्तम्भ  से ही जनता की सोच पर असर पड़ता है, कानून बनते है, संसद, न्यायपालिका, विचारधाराओं और आंदोलनों पर मीडिया की गहरी छाप रहती है। पत्रकारिता और सम्बंधित माध्यमो में निष्पक्ष लोग भी है पर एक बड़ा और प्रभावशाली पक्ष व्यापारिक सोच रखे हुए भौतिक लोभ में फंसा अपने कर्तव्य से दूर है। आशा है अगली बार जब आप किसी ऐसी खबर से रूबरू होंगे तो मन में फैसला सुनाने से पहले सभी तथ्य, पक्ष और पहलुओं की जाँच करेंगे। 

समाज और पुरुष - छद्म सत्य 

हमारा नजरिया, सोच और पसंद अक्सर तुलनात्मक बातों से निर्धारित हो जाती है। जब ऐसी तुलना वर्गों की होती है तो भी हम उन्हें एक इकाई की तरह देखते है जबकि एक वर्ग मे हर तरह के व्यक्ति होते है जो अपने जीवन में तरह-तरह की समस्याओं से झूझते है। इस लेख के ज़रिये समाज के आधे हिस्से पुरुष वर्ग से जुड़े कुछ मुद्दे और समस्याओं पर प्रकाश डालने की कोशिश की गयी है। इसका मतलब यह नहीं कि महिलाओं की समस्याएँ कमतर है या ज़रूरी नहीं, इसका मतलब बस इतना है की सरकार, मीडिया, जनता और निजी संस्थानों का ध्यान दोनों वर्गों के घाव बन रहे मुद्दों के उन्मूलन पर होना चाहिए न की सिर्फ एक पर। साथ ही समस्याओं का समाधान साथ मिलकर आसानी से हो सकता है, एक वर्ग के कुछ प्रतिशत उदाहरण लेकर पूरे वर्ग को कोसने से नहीं। आशा है इस लेख से आपकी जानकारी बढ़ेगी और अगली बार लिंग आधारित बात पर आप इन तथ्यों को भी संज्ञान में रख कर अपनी राय बनायें। 

सोच 

जब ऐसे  विषय लोग सुनते है तो वो मानने से इनकार कर देते है कि पुरुषों की समस्याएँ हो सकती है। कुछ हँसते है, कुछ सवाल करते है, कुछ फिर से अधूरे तुलनात्मक तथ्य रख देते है जो उन्हें मीडिया द्वारा सालों-दशकों से पिलाये जाते है। अब इस अधूरी धुरी पर पूरी स्थिति का अवलोकन कैसे किया जा सकता है? पर दुर्भाग्य से ऐसा अक्सर होता है। मुद्दों से पहले यह एक सामान्य बुद्धि बात बता दूँ की दुनिया में लगभग 3.80 अरब पुरुषों की समस्याएँ नहीं होंगी जो सिर्फ उन्ही तक सीमित हों, क्या ऐसा संब संभव है? जी नहीं! साथ ही एक पुरुष के अपराध के पीछे जाँच करना ज़रूरी नहीं समझा जाता, और सामने किया गया अपराध रख दिया जाता है जबकि कई मामलो में स्त्रियों को अपराधी मानने से ही इनकार कर दिया जाता है। अपराध साबित होने पर उसकी वजहें ढूँढी जाने लगती है। इस सोच की वजह से कितने ही लोगो का उत्पीडन होता है और कितने ही अपराधी लचीलेपन का फायदा उठा लेते है। हर पहलु में यह अंतर करती सोच गहरी पैठ कर चुकी है। 

शुरुआत नारीवाद आन्दोलन से हुयी। जिसका उद्देश्य महिलाओं के प्रति भेद-भाव मिटाना और उन्हें समान अवसर देना था। इसके तहत समाज में कई सराहनीय बदलाव हुए पर धीरे धीरे इस आन्दोलन से अवसरवादी और लालची लोग जुड़ गये और ये आन्दोलन दिशा भटक गया।  जैसे भारत मे बीस लाख से ज्यादा स्वयंसेवी संस्थायें है जो महिलाओं के उत्थान के लिए काम कर रही है पर ज़रा सोचिये यानी हर 317 महिलाओं पर एक संस्था, अगर यह सभी संस्थायें वाकई काम करें तो महिलाओं की समस्याएँ कितनी कम हो जायें पर इनमे से ज़्यादातर कागजों पर चलती है जो बस रिपोर्ट्स, सर्वे और अपने मीडिया लिंक्स मे असली के साथ-साथ कई तथ्य, साक्ष्य खुद से गढ़ कर पेश करते रहते है ताकि उन्हें जनता, सरकार, विदेशो या कॉर्पोरेट साधनों से आर्थिक, सामाजिक लाभ मिलता रहे। दुख यह है की उनके इस व्यापर को हर तरफ से समर्थन मिलता है और उसपर सवाल उठाने वालों को छोटी, अविकसित सोच का तमगा मिल जाता है। कुछ प्रतिशत संस्थाओं का अच्छा काम इतने बड़े देश में बहुत छोटा दिखाई पड़ता है। 

कानूनी अड़चने और भेदभाव 

जिन महिलाओं की स्थिति सुधारने के लिए कानून बनाये जाते है उनमे से कई अशिक्षा और जागरूकता की कमी से उन तक तो फायदा पहुँचता नहीं अलबत्ता एक बड़ा तबका जो साक्षर है, आत्मनिर्भर बन सकता है है वो लालचवश, विवादों में इनका गलत इस्तेमाल करता है। एक महिला का दावा काफी होता है किसी बलात्कार, दहेज़ उत्पीडन, शोषण की बड़ी खबर बनने पर बाद में अगर वो दावा सच साबित नहीं होता तो मीडिया उस तरह खबर का खंडन नहीं करता जितनी बड़ी हेडलाइंस दावे पर बनती है। इतने तबको  में विभाजित समाज पर एक कानून लगाना कई बार एकतरफा बात हो जाती है। किसी पूरे परिवार का भविष्य, आमदनी खतरे में डाल अगर आरोप झूठा साबित होता है तो महिला को किसी प्रकार की सजा का प्रावधान नहीं है। 498A दहेज़ विरोधी कानून पर उच्चतम न्यायलय ने भी टिपण्णी दी की इसके सही उपयोग से कहीं ज्यादा इसका दुरूपयोग होता है जिसमे लाखो-करोडो परिवार बर्बाद हो चुके है। इसी तरह घरेलु हिंसा, संस्थाओं में यौन शोषण के गढ़े गए मामले सामने आये है जिनसे केवल विडियो फूटेज द्वारा बचा जा सका यानी किसी दर्ज साक्ष्य के बिना ऐसे संगीन  आरोप से बचना बहुत मुश्किल है और लालचवश आरोप लगाने वाली स्त्रियों को चेतावनी देकर छोड़ दिया जाता है। इस जटिल दुनिया में ये बाइनरी मोड क्यों? क्या कुछ और सुधारों की ज़रुरत नहीं? 

एक जैसे अपराधो पर दोनों लिंगो को मिली सजा में भी बड़ा अंतर है। मुकदमा शुरू होने से पहले ही एक के किये अपराधों को स्वाभाविक प्रवृति  मान लिया जाता है जबकि एक के किये अपराधो में ज़बरदस्ती उसकी मजबूरी खोजी जाती है। वो भी आज के समय में जहाँ किसी के बारे मे फ़िल्मी पूर्वाभास करना अनुचित और गलत साबित होता है। 

जिस दिन निर्भया/दामिनी सामूहिक बलात्कार हत्याकांड हुआ उसके बाद जनता मे काफी रोष था, ये एक अच्छा संकेत था जिस वजह से अपराधी जल्दी पकडे गए और अब उन्हें मृत्युदंड ही मिलना चाहिए। एक जघन्य अपराध पर जनता का इस तरह जागना शुभ संकेत था जिस कारण व्यवस्था पर जोर पड़ा। पर क्या आपको पता है उस दिन गुजरात में एक व्यक्ति की 2 महिलाओं ने हत्या की फिर उसको 16 टुकडो में काट दिया, अब इस अपराध पर बहुत से लोग बिना कुछ जाने मृत पुरुष से सहानुभूति जताने के बजाये पहली प्रतिक्रिया यह देंगे ज़रूर उस आदमी ने कुछ किया होगा। कितनी शर्म की बात है! ये पैसो के लालच में एक अमीर स्टोक ब्रोकर की परिचितों द्वारा हत्या थी। आप दूसरो की दकियानूसी सोच बदलने पर जोर देते है, कभी ज़रा इन मामलों मे ऊपर उठकर फ़ैसला नहीं दे सकते? मै यह नहीं कह रहा की उस व्यक्ति उस व्यक्ति के लिए भी देश भर में  कैंडल मार्च निकाले जाए या महीनो तक मीडिया द्वारा कहानी का फॉलो अप किया जाये पर कम से कम ऐसे मामलो में बिना जाने यह तो न बोला जाए की जिसपर अपराध हुआ है गलती उसी की होगी। थोडा बहुत मीडिया में भी उस खबर को तवज्जो दी जानी चाहिए थी। सबसे बड़ी विडंबना यह है की वो दोनों महिलायें 12 साल बाद जेल से छुट जायेंगी। क्या उनकी जगह अगर दो पुरुष होते और मरने वाली एक महिला तो भी ऐसी ही सजा होती और राष्ट्रिय स्तर पर कोई खबर न बनती? 

अक्सर आप देखेंगे की कोई महिला कुछ आपत्तिजनक कह देती है या अपराधिक कृत्य करती है पर उसपर प्रतिक्रिया नहीं होती जैसी वैसा ही काम, कथन किसी आदमी के द्वारा होता तो होती है। आप कहेंगे ऐसा बहुत कम होता है पर ऐसा अक्सर होता है बस आपकी सोच अपने हिसाब से मामले दर्ज करती है। जैसे राखी सावंत के टॉक शो में खुद पर हुए एक कथन की वो नपुंसक है से दुखी एक ग्रामीण युवक ने आत्महत्या कर ली, अगर कोई पुरुष सेलिब्रिटी ऐसा कथन दे किसी ग्रामीण महिला को की वो बांझ  है तो उसका करियर तो डूबेगा ही, साथ ही उसकी हर तरफ निंदा होगी और उसपर दर्जनों केस दर्ज होंगे। सिर्फ बांझ कहने पर, और अगर उस महिला ने शुब्ध होकर आत्महत्या कर ली तब तो उस सेलिब्रिटी का नक़्शे से अंत ही समझिये। होता अच्छी मात्रा सब कुछ है बस जनता वही देखना चाहती है जो उसको पढाया, सिखाया जाता है। बाकी बातें अपनी सुविधानुसार स्वाहा कर देती है फिर तर्क दिए जाते है की ऐसा तो कुछ होता ही नहीं समाज में जो चिंता की जाये। यह दोहरे मापदंड क्यों? 

आरक्षण, संवैधानिक लाभ 

भारत एक विविध राष्ट्र है जहाँ 2 वर्गों (स्त्री-पुरुष) में कई विभाजन किये जा सकते है और एक जैसा कानून या फायदे सबपर लागू करना करोडो के अन्याय करना होगा। पारिवारिक और सामाजिक रूप से संपन्न लड़कियों को आथिक और सामाजिक रूप से पिछड़े लडको पर कोटा, आरक्षण दिया जाना भी जायज़ नहीं। संविधान को अपने मायने बदलने होंगे समय के साथ। राजनैतिक आरक्षण का  हाल किसी से छुपा नहीं है जहाँ अपने परिवार की और रिश्तेदार महिलाओं को सीट दे दी जाती है राजनैतिक घरानों द्वारा। यहाँ औसत सांख्यिकी को देखा जाता है जैसे किसी सर्वे के अनुसार औसत पुरुष के 1 रुपया कमाने पर औसत स्त्री 77 पैसे कमाती है पर यहाँ भी सिर्फ एकतरफा पहलु रखे जाते है। यहाँ यह नहीं बताया जाता की काम से होने वाली 95% मौतें और गंभीर बिमारियों का शिकार पुरुष होते है। राष्ट्रिय औसत अनुसार स्थान विशेष की निति बनाना गलत है। 

 तलाक, संपत्ति और बच्चो पर अधिकार

सामाजिक परिवर्तन के साथ ये पाया गया है की आर्थिक रूप से मज़बूत अभिभावक बेहतर परवरिश और माहौल दे सकता है फिर भी बहुत कम मामलो में पुरुषो को किसी कानूनी विवाद में बच्चो पर अधिकार मिल पाता है। बाहरी न्यायपालिका तो संयुक्त परवरिश के भी कम फैसले सुनाती  है। बिना माँ-बाप को जाने केवल पुराने मामलो के उदाहरण देकर ऐसा करना बदलते सामाजिक परिवेश में जायज़ नहीं है। कानून मे आये बदलावों के अनुसार तलाक के मामलो में "साक्षर", "आत्मनिर्भर" स्त्रियाँ पति की आमदनी के बड़े हिस्से की अनुचित गुज़ारे भत्ते और उसकी अपनी कमाई और पैतृक संपत्ति की मांग करती है चाहे शादी कई सालो तक चली हो या कुछ हफ्तों मे टूट गयी हो। 
गलती अगर लड़की पक्ष की भी हो तो घरेलु हिंसा, दहेज़, शारीरिक उत्पीडन आदि के आरोप तो है ही साथ देने के लिए। और कानूनन गलत को सही साबित करने के लिए। 

स्वास्थ्य सेवाएँ और कार्यक्रम 

महिलाओं के स्वास्थ्य, काउंसलिंग आदि जुडी सेवाओं पर सरकार, निजी संस्थानों, स्वयं सेवी संथाओं और संयुक्त राष्ट्र जैसी बड़ी अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं निरंतर काम करती है, जागरूकता भी फैलाती है पर पुरुषों में होने वाली बिमारियों या वो डिफेक्ट जो पुरुषों मे अधिक होते है उनपर अलग से उतना धन, परिश्रम और ध्यान नहीं दिया जाता। प्रजनन अधिकार पूरी तरह से महिलाओं को है अगर पिता चाहता है की बच्चा हो और माँ नहीं चाहती तो वो गर्भपात करा सकती है जबकि अगर पिता गर्भपात   चाहता है और माँ बच्चे को जन्म देती है तो उस बच्चे की परवरिश का खर्च पिता के जिम्मे होगा चाहे पिता की आर्थिक स्थिति जैसी भी हो। 

अन्य मुद्दों में पितृत्व छल, अनिवार्य रूप से फ़ौज की सेवा, स्थान विशेष के कानून जैसे और भी कई मामलें है जो पुरुषों तक सीमित है। 

किसी भी तरह का सामाजिक कार्य अच्छा होता है। नारीवाद के अच्छे पहलु है, कई स्वयं सेवी संस्थायें बुनियादी स्तर से बेहद सराहनीय काम कर रही है। मैंने अपने जीवन के कुछ साल ऐसी ही नारीवादी संस्थाओं को दिए है और आगे भी देता रहूँगा। बस मेरा तर्क यह है की न्याय के लिए संघर्ष वर्गानुसार सीमित नहीं होना चाहिए।  पर जैसा सोच बदलने का नारा उनके द्वारा दिया जाता है वैसे ही उन्हें भी अपनी सोच मे तबदीली लानी होगी। सोचने के तरीके और नज़रिए पर इतने फिल्टर्स लगा कर सही निर्णय नहीं लिया जा सकता। बिना सोचे समझे पूर्वाग्रहों, धारणाओं को आधार न बनायें। ज़रूरी नहीं कोई विरोधाभासी बात गलत ही हों कोई बीच का रास्ता भी निकाला जा सकता है। एक सच यह है की नारीवादी मांगो का कोई ऑफ बटन नहीं है, जैसे अमेरिका में पहले कॉलेज में छात्र और छात्राओ के अनुपात पर और संपत्ति मे पुरुषों के वर्चस्व पर आपत्ति थी। अब वहां 60% स्त्रियाँ है कॉलेजस का हिस्सा है, संपत्ति पर भी अब महिलाओं का अधिकार ज्यादा है, अब जब यह मिल गया तो बड़े-छोटे पहलु खोज-खोज कर अंतर खुद से गढ़े या खोजे जा रहे है। पर समानता तो 50% पर होती है, अब यह बदला अनुपात क्या पुरुषो के साथ भेद भाव नहीं? बल्कि कुछ नारीवादियों को तो और शेयर चाहिए और जहाँ  भी अनुपात स्त्रियों के पक्ष मे झुका हो उसको नारी सशक्तिकरण का नाम दिया जाता है। यहाँ भी दोगलापन? अगर आपकी नीतियों से अलग-अलग क्षेत्रो में 2 वर्गों के अनुपात मे ऐसे विशाल अंतर बन रहे है तो वो सशक्तिकरण नहीं बल्कि पक्षपात है। 

आशा करता हूँ की अगर करोडो लोग एक दिशा में काम कर रहे है और कुछ लोग एक अलग दिशा में समाज में बदलाव के लिए कार्यरत है तो वो करोडो लोगो की जनता उन कुछ लोगो के कार्य पर सवाल, संदेह या हास्य नहीं करेगी क्योकि समानता का मतलब एक पलड़े को ज़बरदस्ती झुकाना नहीं बल्कि साथ मिलकर कांटे को स्थिर करना होता है। समाज मे बदलाव स्त्री-पुरुष वर्गों के मिलकर चलने से आयेगा, एक वर्ग को कोसने से नहीं। यहाँ लिखते हुए मैंने जितने प्रश्नचिन्ह इस्तेमाल किये है उतने पहले एक जगह कभी नहीं किये यह भी आशा है ये प्रश्नचिन्ह सकारात्मक सुधारों के साथ मिट जायेंगे। 

हर साल 8 मार्च को महिला दिवस मै हर्ष से मनाता हूँ और अपने जीवन और समाज मे संघर्ष कर रही महिलाओं को शुभकामनायें देता हूँ, और उनके विशाल योगदानो के लिए उनका शुक्रिया करता हूँ। पर साथ ही मै 19 नवम्बर को पुरुष दिवस मनाता हूँ सभी अच्छे पुरुषो के असीम योगदान का  धन्यवाद करते हुए। किसी चैनल या अखबार-पत्रिका से तो यह खबर मिलेगी नहीं पर उम्मीद है इस साल आप भी उन पुरुषों को सेलिब्रेट करेंगे जो समाज में अपराधिक तत्वों (जिनको इतनी फुटेज दी जाती है) से कई गुना ज्यादा है और जिन्हें युवाओं का आदर्श बनाया जाना चाहिये। हैप्पी मेन्स डे! 


- Mohit Sharma (Trendy Baba)

Monday, October 21, 2013

DJ Trendy Baba Love Mix – Author Mohit Sharma Trendster

DJ Trendy Baba Love Mix – Author Mohit Sharma Trendster

October 19, 2013 at 11:24 am (Uncategorized) · Edit

*) – DJ Trendy Baba Love Mix
(Mohit Sharma) 
*Another experiment…fingers crossed.
(Freelance Talents Championship 2013 Qualifiers Winning Entry against Author Ambica Bhardwaj)

A chair rested under a delicate yet spreading tree, the only living thing that, at least, spitted a little puddle of shade on the dusty, baked earth. She spotted it from afar and lazily walked towards it. The clearing swarmed with tired yet mysteriously busy students, rushing from one person to another. Sometimes the way people talked and chatted continuously made her sick. “Nonstop un-creativity! or am I Heartsick.” She had a habit, a bad one hopefully, of noticing how people sometimes said meaningless things, ultimately stupid things and made fools of themselves in front of others. That too over and over again with new permutations and combinations just to prove that they learnt from past which actually is not the case.
She soon reached the little puddle of shade under the lonesome rather sad-looking tree and took a deep breath, gulping a bolus of hot, dusty air. Carelessly dropping her bag to the ground she carefully balanced herself on the chair and sat back, slowly wiping her forehead with the back of her hand. She wasn’t in a hurry and that sense of realization always made her do things leisurely.
After what felt like hours, she flickered her eyes open and looked around. Somehow she had managed to sleep in the middle of all the unpleasant chaos. The bustling throng had evaporated by now and only a few were scattered around either in tiny bundles or couples, some alone too. While scanning the remains of what seemed like a stubborn monster a while ago, she spotted a boy standing right in the middle of the diminutive desert of a parking lot.
He stood straight yet he had a peculiar laziness to himself quite similar to her. With his hands stuffed inside his pockets, he languidly paced around his bag and Hockey stick which were piled on the ground right besides him. She peered at him with observant eyes, absorbing every drop of fantasy that his appearance provided. 

His head was heaped with a mass of half curly half wavy brown hair which crowned him beautifully. She gazed at them and deep down in the gossamer of her thoughts, imagined her fingers sinking into them. She instantly felt them… soft and teasing against her finger tips and a chill ran down her spine. The sinister sunlight molded his whiskey brown eyes into tiny slit which slightly curved upwards whenever he smiled. His features had a delicacy to them and it felt as if God had made him with brilliant finesse… exhibiting his skill and flamboyance. A small mystifying smile touched the corner of his lips and suddenly, he looked up at her.
She was caught. She felt streams of sweat gliding down her chest and she instantly lowered her gaze, rubbing her thumb against the palm of the other hand. Moments later she looked back at him and saw him standing, staring at the ground. She longed for those eyes to look back at her and this time she decided to look back into them. He playfully kicked a pebble and raised his eyes to her… But this time it was him who directly dropped his eyes to the ground. He was shy! And that, bizarrely, added another feather to his already mesmerizing collection. This boosted her buoyancy and she glued her eyes to him, drinking in every move. Another look and another exhibit of modesty. How cruel God can be sometimes, she thought to herself.
Moments later, a yellow bus purred into the parking lot, setting off the dusty ground into shallow clouds. For the first time, she moved her glance and peered at the bus. It was his bus. This meant he’d go away. A labyrinth of emotions settled inside her. He’ll go, she wondered sadly. But I’ll see him tomorrow again, that brought about anticipation. With the very same aloofness, he picked up his bag and draped it over his shoulder, Hockey stick in the other hand, and rather swiftly walked towards the bus. Once inside, she disowned him and started making circles in the sand beneath her feet with a firm yet dying straw. 
The shy schedule continued for few weeks and finally the short circuit. It’s rarest of rare case to find a person with all the traits you dream about, luckily both of them were quite close to each-other’s dream stuff. After graduation Arshad cleared government exam, he was appointed as head clerk in the city archives department.  
Arshad k paas mauka tha Noori ko hamesha k liye apnane ka par jaane se poehle uske Mama ne usko chetaya ki Noori ek Yahudi (Jew) hai aur Arshad ek Musalman. Us desh mey jahan ka itihaas in do samudayo k taklh rishto aur buri ghatnao se bhara hua tha. Apni jawani tak ka samay Arshad ne desh k bahar apne Nana k ghar mey bitaya jahan ka mauhaul dharmnirpeksh tha isliye Arshad zamini haqiqat se kaafi door tha. Use laga ki uske Mama apni beti k rishte k liye uspar nazar gadayen hai. Wo apne Mama ki izzat karta tha, wo halkate the par apni mehnat se unhone apne vibhag mey bada auhda haasil kiya tha. 
Arshad apne Mama ki baat ansuni kar badi ummeedon k saath Noori k ghar uska haath maangne pahuncha aur uske gharwaalo ki laaten kha kar lauta. Usey bura laga ki “Aese hi mana kar dete colony k saamne chappalo se peetne ki kya tuk thi? Ab chahe desh ka Prime Minister bhi ban jaun us colony mey muh churakar hi chalna padega.” 
Uske Mama ji uske paas dilasa dene k liye aaye par usne rukha jawab diya.
“Kya..Mama ji abhi beizzati aur pitai hui hai meri…aap mauke ka faayda utha kar apni beti ki setting karvane mey lage ho.”
Mama ji – “Ba-Ad..ab-Tameez…”
Arshad avsadgrast ho gaya aur usko fast food ki gehri lath lag gayi. Uska weight badhne laga aur usko Ulcer ho gaya. Uski naukri chhutne waali thi ki Mama ji phir aaye.
Mama ji – Tujhe samjhane k liye apni Bay…tee ki shah..di karni padi mujhe. Jaa…Hill….census record check kar kasbe ka usme tere matlab ki cheez hai.
Arshad ko hint mil gayi usne apne department k dher se Noori ka family tree aur khaandaan dekha to paya ki uske Par-Dada pravasi Musalman the jo yahan ki community k dabav mey Yahudi ban gaye. Ye baat Arshad ne us samuday mey faila di aur Noori k parivaar jaise achhoot ban gaya. Kuch kattar Yahudiyon se unko dhamkiyan milne lagi.

Idhar prashashan mey is baat se khalbali mach gayi, aage koi sampradayik ghatna na ho jaaye is se abhi sab niptane ka faisla liya gaya aur bade level par audit hua, jisme paaya gaya ki Arshad k Par-Par (Super) Dada ek Yahudi the jinhone parivaar samet Islam dharm mana. Arshad ne apna matha peet liya. Arshad k parivaar ki haalat bhi samuday k kuch kattarpanthi tatvo ki wajah se Noori k parivaar ki tarah hi thi.

Audit mey ye bhi paya gaya ki is kasbe mey sirf 2 parivaar hi aese hai. Dono parivaaro ne apni sampatti bech samudakiy coloniyon k beech mey ghar khareeden. Janta confuse thi ki kaun kya hai? Is sab k raazdar Arshad aur uske Mama hi the…kisi ko andaza nahi tha ki achanak se itne saalo aur peedhiyon baad ye kaise hua aur kisne kiya? 
Arshad ek raat chupke se Noori k ghar ghusa aur usne unke sabhi tarah k chappal-jutey, jhaadu-wiper aadi chhupa diya. Agli subah poori tarah ashvast hokar Arshad Noori k ghar aaya. 
Arshad – “Dekhiye Uncle ji…ye tera-mera ka bhed to insaan banate hai. Ab to humare beech ye bhed hi itna confusing ho gaya hai ki dono parivaaro ko border par rehna pad raha hai. Noori se ab kaun rishta karega….mere alawa? (he he) To is mushkil ghadika saamna hum logo ko saath milkar karna chahiye. 
Aunty ji – Bhaiya log…aap hi samjhao Uncle ji ko, ladki bhi bagal mey jaa rahi hai aankhon ke saamne rahegi. Ye rishta economical bhi hai ji…ab tullu pump ya submersible khudvayenge hum dono parivaar to kitna kharcha aayega to ek hi tullu khudva lenge dono parivaaro k…isi tarah gas waali line, bijli ka meter, nagar nigam…aap khud socho kitni bachat hogi…ye deewar  todo aur behtar kal se naata jodo. Jai Santoshi Mata…”
Aunty ji – “Aye ji..iski family ka phir se audit karvao…”
 The End!