Freelance Falcon ~ Weird Jhola-Chhap thing ~ ज़हन
- Mohit Sharma (Trendy Baba / Trendster)

Tuesday, December 30, 2014

Mohit Trendy Baba - December 2014 Update

Namastey! :) It's been a busy year for me. I have been fortunate to work on variety of projects and collaborate with some amazing artists. Time for December 2014 archiving....



*) - Recorded 5 new podcasts on comics, fiction, music and sports. (Mohit Trendster, SoundCloud and allied websites)


*) - Published second edition of The Aryanist Journal


*) - Attended Comic Fan Fest 2014 event, shared my views in a brief interview.


*) - Cover Story for Roobaru Duniya Special Joint Edition (December 2014 - January 2015)


"Duality" Digital Painting with Mr. Vibhuti Dabral

Vibhuti Dabral
"Based on an idea by the ever awesome Mohit Sharma Trendster
Duality permeates our lives. There’s Prakriti and Purush, Man and Woman, Good and Bad, Light and Dark, and so on. This painting is heavily influenced by the ancient Indian philosophy of Dvaita and the myth of Adam and Eve, the serpent who tricked them into eating the fruit from the Tree of Knowledge. The division however, only signifies that all existence is one. The two are complementary. They complete Creation.
It is very probable that our creation myths originate in the visions the ancient shamans had when they ingested psychoactive substances as a part of a spiritual or recreational practice. These substances, also known as entheogens or hallucinogens are many, but the most common and popular remain: cannabis/marijuana, Psilocybin mushrooms aka magic/psychedelic mushrooms, Ayahuasca, Peyote (Lophophora williamsii, Datura (Datura stramonium), etc. In the 20th century, Lysergic Acid Diethylamide(LSD), and Dimethyltryptamine (DMT)[also a part of Ayahuasca, a brew traditionally used in some Amazonian cultures for psychoactive purposes] became widely known and available.
Many have speculated that our ancestors routinely experimented with such psychoactive substances. In all probability, psychedelic mushrooms like Amanita muscaria and cannabis must have been very popular with them. These substances, when ingested give the persons who consumes them very vivid and intense visions, which led to deep and profound spiritual insights. The sense of wonderment and wisdom they had after such experiences might have led them to formulate the seeds of our collective mythology.
There is a mention of psychoactive substances in Indian and Persian traditions. In the Indian tradition, a mysterious drink or brew by the name of Soma is mentioned in Rigveda. It is described as the drink of the gods. In that text, it has been elevated to the status ‘god for gods’, and a position higher to that of Indra and other gods. The Rigveda, which has a complete section devoted to Soma, states:
We have drunk Soma and become immortal; we have attained the light, the Gods discovered.
Now what may foeman's malice do to harm us? What, O Immortal, mortal man's deception?
[Rigveda(8.48.3]"


*) - Invited as a guest By Gyan Mission Firozabad. Shared some creative tips with the young budding writers and learnt a lot from senior authors-poets. :) News coverage:




*) - Experimenting with new softwares, tools and mediums. Finalizing few scripts for short videos and educational documentaries. Update on delayed comic, video projects in first quarter of 2015. Thank you & Happy New Year!


Monday, December 29, 2014

Infra-Surkh Shayars vs. Life (Poetry Collection)


A collection of poems in English, Hindi, Spanish and Urdu.

Infra-Surkh Shayars (What is Life?)

Pages: 43
ISBN: 9781311426581


Artists - Melina Dina (Melibee) :: Dr. Inayat Khan Qazi :: Mohit Sharma (Trendster)

Editor – Kamlesh Sharma

© Freelance Talents (2013), all rights reserved.

#late_update

Tuesday, December 23, 2014

Aaj phir us dar se lautna hua.... - मोहित शर्मा (ज़हन)



Aaj phir us dar se lautna hua….
Ek Raah mujrim tang thi,
Do musafiron ka saath chalna hua,
Ek pyaar betarteeb yun…
Kitne shikven aur ek muflis shukriya,
Aaj phir us dar se Lautna hua !

Koshish rahegi umr bhar,
Ek naam par nikle dua…
Jin kamro mey Tanhaai thi,
Wahin yaadon se milna hua..
Aaj phir us dar se lautna hua !

Jo vaayda aankhon mey hua,
Veeranon mein Armaano ka majma laga
Parda naa hone ka malaal unhe,
Jab shafaaq-O-shabhnam thi darmiyaa,
Aaj phir us dar se lautna hua !

Khudgarz kab patjhad laga,
Saawan kasam dene laga…
Ek khwaab dil ke kareeb tha,
Khwaishon mein jo shaheed hua…
Tab himmat se haara karte the…
Ab kismet se haare jua…
Aaj phir us dar se lautna hua !

Jiske shafugta hone par jashn tha,
Jaane kahan wo gum hua,
Jinse rooh wabasta thi,
Kis mod wo Tanha hua,
Aaj phir us dar se lautna hua….

-------X------X-----X-----X----X----X----X-------

आज फिर उस दर से लौटना हुआ

आज फिर उस दर से लौटना हुआ
एक राह मुज़रिम तंग थी,
2 मुसाफिरों का साथ चलना हुआ,
एक प्यार बेतरतीब यूँ
कितने शिक़वे और एक मुफ़लिस शुक्रिया,
आज फिर उस दर से लौटना हुआ

कोशिश रहेगी उम्र भर,
एक नाम पर निकले दुआ,
जिन कमरो में तन्हाई थी,
वहीं यादों से मिलना हुआ,
आज फिर उस दर से लौटना हुआ….

जो वायदा आँखों में हुआ,
वीरानों में अरमानों का मजमा लगा,
पर्दा ना होने का मलाल उन्हें,
जब शफ़ाक़ ओ शभनम दरमियाँ
आज फिर उस दर से लौटना हुआ

खुदगर्ज़ कब पतझड़ लगा,
सावन कसम देने लगा,
एक ख्वाब दिल के करीब था,
ख्वाइशों में जो शहीद हुआ
तब हिम्मत से हारा करते थे,
अब किस्मत से हारे जुआ
आज फिर उस दर से लौटना हुआ

जिसके शगुफ़्ता होने पर जश्न था,
जाने कहाँ वो गुम हुआ,
जिनसे रूह वाबस्ता थी,
किस मोड़ वो तन्हा हुआ?
आज फिर उस दर से लौटना हुआ….

- मोहित शर्मा (ज़हन)

#mohitness #trendster #trendybaba #freelancetalents

Saturday, November 29, 2014

Mohit Trendster November 2014 Update


*) - Uploaded 10 new podcasts on different themes, recordings on Soundcloud and few other audio file sharing websites. 

*) - Completed a travel-tourism documentary script.


*) - Successful completion of this year's Indian Comics Fandom Awards (26 November 2014)

*) - Started 'Randomiya' and 'Zambo Zet Zahaaz ki Zustzoo' webcomics.

*) - More educational-entertainment stuff with members of Akanksha Foundation.

Few comics are complete but taking quite some time in the coloring stage. Couple of comics in December 2014, FT Championships postponed. 

Wednesday, October 22, 2014

Sep-Oct 2014 Update - Mohit Trendster



1) - Jhootha Na Sahi & (Mithyer Mando Mithai - Bangla Version) with Price Ayush, Soumendra Majumder, Youdhveer Singh



2) - Parallel (Zero Comics) with artist Mr. Vibhuti Dabral



3) - Indian Fanfic Podcast Series 

*) - Complete Indian Fanfic Podcast Series Playlist (17:37 Minutes)

*) - Indian Fanfic Podcast (Part # 01)

*) - Indian Fanfic Podcast (Part # 02)

*) - Indian Fanfic Podcast (Part # 03)

*) - Indian Fanfic Podcast (Part # 04)


4) - 2 Comics with Tadam Gyadu and Abhilash Panda

5) - Marathi, Tamil translations, stories, Podcasts, Ebooks with Aayam NGO



6) - Indian Comics Fandom Annual Poll Winner - Holy Cow Entertainment (3 times in a row)

7) - Freelance Talents Team Championship 2014, Indian Comics Fandom Awards 2014, Freelance Talents Championship 2014-15 - December 2014

- Mohit Trendster

Friday, August 22, 2014

Behrupiye ka Baap Behrupiya (Acting Monologue)


Behrupiye ka Baap Behrupiya (Acting Monologue) - बहरूपिये का बाप बहरूपिया (अभिनय एकालाप)


Actor - Prince Ayush
Concept and Script - Mohit Sharma (Trendster)








Keywords - प्रिंस आयुष, आयुष झा, अभिनय, लेखक मोहित शर्मा (ज़हन), ट्रेंडस्टर, ट्रेंडी बाबा, Freelance Talents, Prince Ayush, Ayush Jha, Mohit Sharma Trendster, Trendy Baba, Mohitness, Freelance Falcon, 421 Brand Beedi Federation, Trendy Baba Mafia, Acting, Monologue, Earthquake, Meteor, Comedy, Experimental, India, Hindi

Saturday, August 2, 2014

Tuesday, July 29, 2014

मरो मेरे साथ : Maro Mere Saath! (Audio Book Info)


**Achievement Unlocked** Boltikahani Team created an Audio Book/Story on my Horror novella “Maro Mere Saath! - मरो मेरे साथ!” (2008). I loved the style & energy of gifted Voice Over artist who managed over a dozen characters single-handedly (want to remain anonymous). More audio books on recent works soon! 

*) – Bolti Kahani Website

*) – Vimeo

*) – Youtube 


*) - Boltikahani Mobile App 

*On Soundcloud, Dailymotion and other similar websites soon.

- Mohit Sharma Trendster #mohitness #audiobook #boltikahani — with Mohit Sharma.


Pic From my blog Mohit-O-Graphy

Monday, July 28, 2014

Pages from Kargil Chapter (Long Live Inquilab! - Book # 2)


Chapter # 1 – Ghulam-e-Hind (Kargil Tribute) from upcoming Long Live Inquilab! (Book 2). Artwork - Husain Zamin, Concept, Poetry & Script - Mohit Sharma (Trendster)

Video: Kargil – Long Live Inquilab!










रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी,
सजी दुलहन सी बने सयानी।
फसलों की बहार फिर कभी ….
गाँव के त्यौहार बाद में …
मौसम और कुछ याद फिर कभी ….
ख्वाबो की उड़ान बाद में।
मांगती जो न दाना पानी,
जैसे राज़ी से इसकी चल जानी?
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।
वाकिफ है सब अपने जुलेखा मिजाज़ से,
मकरूज़ रही दुनिया हमारे खलूस पर,
बस चंद सरफिरो को यह बात है समझानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।
वक़्त की धूल ज़हन से झाड़,
शिवलिंग से क्यों लगे पहाड़?
बरसो शहादत का चढ़ा खुमार,
पीढ़ियों पर वतन का बंधा उधार,
काट ज़ालिम के शीश उतार।
बलि चढ़ा कर दे मनमानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।
यहीं अज़ान यहीं कर कीर्तन,
यहीं दीवाली और मोहर्रम,
मोमिन है सब बात ये जानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।
काफिर कौन बदले मायने,
किसी निज़ाम को दिख गए आईने।
दगाबाज़ जो थे ….चुनिन्दा कर दिये,
आड़ लिए ऊपर दहशत वाले …कुछ दिनों मे परिंदा कर दिये।
ज़मीन की इज्ज़त लूटने आये बेगैरत ….
जुम्मे के पाक दिन ही शर्मिंदा हो गये।
बह चले हुकुम के दावे सारे ….जंग खायी बोफोर्स ….
छंट गया सुर्ख धुआं कब का….दब गया ज़ालिम शोर ….
रह गया वादी और दिलो में सिर्फ….Point 4875 से गूँजा “Yeh Dil Maange More!!”
ज़मी मुझे सुला ले माँ से आँचल में ….और जिया तो मालूम है …
अपनी गिनती की साँसों में यादों की फांसे चुभ जानी …
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।


Next Chapter of this Book on Neerja Bhanot

Friday, July 25, 2014

सुनहरी जो मीरा - मोहित शर्मा (ज़हन)



वधू से साधू फली,
लाल जोड़े में दमक पीताम्बरी,
राणा जी की विषैली जलन धुली... 
सुनहरी जो मीरा स्याह कान्हा में घुली। 

श्याम से रंग की आस लिये पिये विष प्याले,
भला कलियुग, भले इसके बंदे,
जोगन को दुनियादारी सिखाने चले। 

सावन वो पावन कर गयी,
जिसको डुबाती नदिया दो धारा हुयी, 
सजदे में अकबर की नज़रे झुक गयी,
सुनहरी जो मीरा स्याह कान्हा में घुली। 

जाने कैसा मोह, जाने कौन सहारा,
एक उसकी वीणा, दूजा जग सारा। 

तानो की अगन यूँ सही,
काँटो की सेज पर सोयी, 
रूखी सी ऋतुओं में निश्चल वो रही, 
सुनहरी जो मीरा स्याह कान्हा में घुली। 

अब तक बस शहजादों - परवानो के किस्सों को लकीर माना,
फिर एक नयी दीवानी को जाना,
उसने मन की मूरत को चुना,
दुनिया जिसे भ्रम कहती रही,
उस वहम से सच्चा इश्क़ बुना। 

सहस्त्रों में बाँट तुम संयत रही, 
फिर प्रेम मोल दो पटरानी जी,
उस जोगन को भी अपना श्याम दो रुकमणी,  
सुनहरी जो मीरा कान्हा में घुली। 

- मोहित शर्मा (ज़हन)
------------------------------------

*) - Hindi-Urdu Experiment.

*) - Mirabai was a great saint and devotee of Sri Krishna. Despite facing criticism and hostility from her own family, she lived an exemplary saintly life and composed many devotional bhajans. Historical information about the life of Mirabai is a matter of some scholarly debate. The oldest biographical account was Priyadas’s commentary in Nabhadas’ Sri Bhaktammal in 1712. Nevertheless there are many aural histories, which give an insight into this unique poet and Saint of India. More: http://www.poetseers.org/the-poetseers/mirabai/index.html


Monday, July 21, 2014

खंडित धर्म का विलाप - मोहित शर्मा (ज़हन)



कई सौ वर्ष पहले की बात है एक राज्य के सबसे बड़े तीर्थ स्थलों में से एक मंदिर के बाहर जमावड़ा लगा था। कुछ लोगो में बहस हो रही थी की क्या आम-चीत में भगवान, देवी-देवताओं की उपमा देना ठीक है या नहीं। पुराणों, ग्रंथो में अनगिनत वृतांत, दोहे, दृश्य एवम संवाद वर्णित थे जो अनेक प्रकार के स्वभावो वाले मनुष्यों के जीवन की लगभग हर बात को समेटे हुए थे साथ ही कैसी परिस्थिति में कैसा आचरण आदर्श है यह भी बताते थे। सभी इस विषय पर वृद्ध पुजारी जी से सलाह चाहते थे। पुजारी जी ने समझाया की भगवान या धर्म के नाम पर कभी उग्र ना हों, इष्ट जन की ग्रंथो से अलग उपमा करना ठीक है पर यह ध्यान रखा जाये की इन बातों में देवों का सम्मान हो और भक्त उलटी-सीधी चर्चा में भगवान को लाने के बजाये अपने विवेक से काम लेकर ऐसा कुछ करें। 

राज्य बड़ा था जिसमे विभिन्न सूत्रों द्वारा जगह-जगह इस घटना और पुजारी जी की कही बात के वास्तविक रूप से बहुत अलग रूपों में बताया गया परिणाम स्वरुप भ्रांतियों फैलने लगी।  कहीं दूर के क्षेत्र में किसी ने उपमा को तुलना सुन लिया तो वहाँ की जनता सभी की तुलना देवों से करने लगे। "तू बड़ा घुमक्कड़ है, बिलकुल नारद ऋषि की तरह।", "मेरी छोटी लड़की तो काली माई है पूरी।" 

धीरे-धीरे यह आचरण आस-पास के इलाकों में पहुंचा। अपने पहले चरणों में बात गंभीर नहीं थी पर असामाजिक व् कुंठित तत्वों द्वारा फैलायीं अफवाहें बढ़ने लगी। राज्य का एक बड़ा घटक मानने लगा की किसी भी तरह की काल्पनिक कहानियों में भी भगवानो को लाया जा सकता है। जो उल्टा पूछे या सवाल किये जाने पर कोई ऐसी अफवाहों का उद्गम ना बता कर, ना उस बारे में सर खपा कर आराम से कह देता की तीर्थ के बड़े पुजारी जी ने बताया है, जबकि ऐसी बातों पर पुजारी जी का स्पष्टीकरण कुछ लोगो तक आकर ही दम तोड़ देता क्योकि चटपटी अफवाह, भ्रांति के सामने रूखे स्पष्टीकरण का क्या काम? खैर, पुजारी जी चिंतित तो हुए पर उनके जीवनकाल मे फिर भी धर्म की एक सीमा रही। 

पीढ़ियां बढ़ी, सैकड़ों वर्ष निकले और यह कमज़ोर भ्रांतियाँ विकराल रूप लेती चली गयी। कल्पना की उड़ान में भगवान के अनेको रूपों का उपहास उड़ाया जाने लगा, कुछ देवी-देवताओं की छवि काल्पनिक साहित्य में इतनी नकारात्मक दिखाई गयी की वो कई लोगो की घृणा के पात्र बने और वास्तविक पुराणों, ग्रंथों से तथ्य-मिथक सत्यापित करने के बजाय उनमे से कुछ नास्तिक और धर्म के कट्टर आलोचक बन गये जो धर्म के अनुयायियों की गलती का ठीकरा भी धर्म पर फोड़ने लगे, साथ ही खुद ऐसी भ्रांतियों के चलते फिरते कारखाने बन गये। धर्म की शक्ति देख बाज़ारीकरण का दानव भी हावी हो रहा था। 

समय के साथ बाहरी तत्व राज्य में घुले। कुछ धर्म सनातन की धारा से अलग होकर बने। कुछ नये धर्म, परंपरायें व्यापार या आक्रमण से यहाँ लाये गये। दूसरे तत्वों से मिलना ठीक था पर उनसे घुलकर एवम भ्रांतियों के जाल से अभिशप्त यह धर्म अपने घटक-गुण भुलाने लगा जिनकी जगह बाहरी तत्वों की सन्धि से बना परिवेश बनाने लगा। अब तक ना जाने कितनी बार अपने मतलब के लिये और जनता को शांत रखने के लिये इतिहास से खिलवाड़ किया गया, हर शासक द्वारा अपने स्वार्थ में इतिहास को बदला गया, अब तक अफवाहों की भी भरमार हो चुकी थी। एक समय समृद्ध राष्ट्र आज घिसट-घिसट कर बढ़ रहा था। 

तीर्थ श्रेष्ठ के पुजारी जी की आत्मा कई जीवन और योनियों में जन्म लेकर मोक्ष को प्राप्त होने बढे, पर तीर्थ में भगवान की आराधना के तेज से अपने पुजारी जन्म की स्मृतियाँ अब भी उनमे प्रबल थी। उन्होंने देवदूतो से धरती, अपने राज्य, तीर्थ, अपने वंशजों का हाल देखने की इच्छा जतायी, उनकी इच्छा का दूतो ने सम्मान किया और उन्हें उनके इच्छित स्थानो पर भ्रमण करवाया। धरती का हाल देख पुजारी जी विचलित हो गये, मानव जैसे मानव ना होकर प्रेत योनि के नीच जन सा आचरण कर रहे थे, हर जगह त्राहि-त्राहि थी। उनके पूर्व राज्य का आधा हिस्सा किसी और राष्ट्र ने हड़प लिया, जिसकी सीमा में उनका तीर्थ सिद्ध पीठ मंदिर था जिसको अलग संप्रदाय के कट्टर अनुयायियों ने शैतान के घर की उपाधि देकर खंडित कर दिया। कभी पुजारी रही आत्मा में अब इतना रोष और शोक था जितना कभी इन्होने अपने किसी जीवन में अनुभव ना किया हो। 

अपने वंशजो के बारे में जानने का कोतूहल हुआ। इनके वंशजो में से एक ने माहौल और अपने ही देश मे खिल्ली उड़ाये जाने का हवाला देकर अपना और अपने प्रियजनों का धर्मान्तरण करवा लिया था। धर्म बदलने के बाद यह चौथी पीढ़ी थी जिनमे सनातन धर्म के प्रति हीन भावना और उटपटांग अफवाहें थी जो अब बुरी तरह बदले इतिहास के अनुसार थी। जब पुजारी जी की आत्मा को अपनी इस पीढ़ी के व्यवसाय का पता चला तो मोक्ष पाने बढ़ रही पूर्ण, शांत आत्मा अशांत, अतृप्त सी हो गयी - उस पुजारी जिसने अपना एक जीवन तीर्थो मे श्रेष्ठ के चरणो में बिताया, उसके वंशज अंतः वस्त्रों, चप्पलों का दूसरे देशो में व्यापार करते है जिनपर देवी-देवताओं के चित्र अंकित होते है। 

पुजारी जी की अब अतृप्त आत्मा ने सोचा सब मेरे कारण हुआ। अगर उस  भगवान की आम बात-चीत में उपमा के प्रश्न पर या तुलना, काल्पनिकता आने पर किसी तरह तब सख्ती दिखायी जाती तो धीरे-धीरे इतनी विकट स्थिति ना आती की अपनी संस्कृति, देश, धर्म का लोग स्वयं ही उपहास उड़ाते, तोड़े-मरोड़े इतिहास को बिना शंकायें-विरोध किये मानते, हीन मानते, धर्म बदल लेते और आँखें मूँद कर "आज़ादी-आज़ादी" बिना उसका मतलब जाने चिल्लाकर खुद को 'दकियानूसी' लोगो  से ऊपर और बेहतर मानते। हर अवसर पर सीमा लाँघने के विरोध पर भोले जवाब मिलते की देखो अब तक तो इतना हो चुका है, हमने तो बस थोड़ी सी छूट लेकर ज़रा सा प्रयोग किया है। बात तो सही थी पर वर्षो से ज़रा-ज़रा दशमलव जुड़कर अब राक्षस सा रूप ले चुके थे। बाकी धर्मो के अवलोकन में पुजारी जी ने पाया की निंदक, आलोचक तो उनके भी बहुत थे पर इस स्तर का मज़ाक कहीं और बर्दाश्त नहीं किया जाता था। कुछ धर्मो में तो उनके ईश की उपमा देना तक इस आधुनिक युग में वर्जित था, उसपर भी ईश निंदा पर मृत्यु की सज़ा जैसे कानून जिसको तोड़ने वाले ना के बराबर अनुयायी या आलोचक थे। जो पुजारी जी के धर्म में युगो से चल रहा था,  यानी इस धर्म को दोहरी मार सहनी पड़ रही थी।

आत्मा ने देवदूतों से क्षमा मांगी और अपने अतृप्त हो जाने की बात बताई जिस कारण अब मुक्ति संभव नहीं थी। 

"मेरी सजा यही है की मैं अपने खंडित तीर्थ के खंडरो में दिव्य अवशेषों की सेवा करता रहूँ अनंतकाल तक।"

समाप्त!
--------------------------

*Street Art - L 7 M

*Javier G.

Sunday, July 20, 2014

Monologue Video - Bhukamp Peedit Ulkapind

Bhukamp Peedit Ulkapind (Prince Ayush & Mohit Trendster)

Youtube Video - Watch Bhukamp Peedit Ulkapind


*We apologize for average video and voice over quality.
Bhukamp peedit Ulkapind
  1. Nahi! Mai Bhukamp peedit nahi hun. Shehar mey Bhukamp aaya hai iska matlab ye to nahi ki us din kisi ke ghar antriksh se Ulkapind nahi gir sakti?” Haso mat!
  1. Arre koi meri baat kyu nahi maan raha? Sab hase hi jaa rahe hai. Mere ghar mey Ulkapind gira hai.
  1. Dekho…wait..mai lambi saans leta hun…shuru se batata hun.
  1. Humara domanjila makaan hai. Upar kiraydaar rehte hai aur neeche meri family. Mere parivaar mey mere mummy-papa hai jo Gaon….mera matlab Goa vacation par gaye hai. Kirayedaar young couple hai.
  1. Subah zor se ek dhamake ki aawaz huyi jaise sabse purani waali Mahabharat mey 2 teer takrate the to jo aawaz hoti thi waisi waali aawaz….aur maine mehsoos kiya ki meri baahon mey koi hai. Maine socha roz ki tarah sapna hoga aur upar waali Bhabhi hongi jab aankh khulengi to Kaamwaali ki jhaadu se udi dhool se Good Morning hogi.
  1. Par ek to dhamaka phir aaj sapne se ulat Bhabhi bahut kulmula rahi thi baahon mey, aankhen khuli to dekha meri baahon mey Bhabhi ki jagah Bhaiya chhatpate hue keh rahe the ki“Bhagwan k liye mujhe jaane de, Darinde!”
  1. Upar roof mey ched ho gaya tha jis se aasmaan dikhai de raha tha. Kamre aur Hall ko ghere hue ek badi chattan type padi thi jisme se dhuan nikal raha tha. Bhabhi aur Kaamwaali ka kuch ata-pata nahi tha kyoki Ulkapind seedhe unpar gira tha.
  1. Tabhi gande kapdo mey ek sundar si yuvati mere paas aayi aur boli….
“Bhaiya! Pair hatao, poochha lagana hai.”
  1. Ulkapind k jaadui asar se Kaamwaali Bai khoobsurat ho gayi thi. Tabhi nighty pehne hue Lasith Malinga hamare saamne aa gaya. To mai aur Bhaiya uske saath selfies aur autograph lene ki zid karne lage….Malinga Bola…
“Arre Murakh…mai teri bhabhi hun…”
Ulka k Jaadu se Bhabhi ki shakl Malinga jaisi lag rahi thi.
The End!

Saturday, June 28, 2014

बहरूपिए का बाप बहरूपिया!



"बहरूपिए का काम बड़ा मुश्किल होता है भैया! न पैसा बनता है और प्रधान से लेकर ननकऊ लौंडे तक मज़ाक बना के चले जाते है। 

बस यूँ काम आया मेरा हुनर, पिता जी का देहांत हो गया और किसी ने दफ्तर खबर कर दी तो पेंशन रुक गयी। घर में तंगी.... तब डरता-डरता मजबूरी में मैं पिता जी बन कर कसबे गया की आज राजा राम जी या तो तार डालें या मार डालें। प्रधान जी की मदद से सब ठीक-ठाक हो गया और पेंशन वापस चालू हुई। 

एक मलाल रहता था हमेशा की मेरी वजह से माँ को कभी ख़ुशी नहीं मिली, सुख-सुविधाएँ तो दूर की कौड़ी थी। माँ भी अब मरणासन थी, खून की उल्टियाँ करती माँ को मैं सब कुछ गिरवी रख शहर के अस्पताल लाया जहाँ पता चला की बहुत देर हो चुकी है और अब माँ कुछ दिन ही और जी पायेंगी। 'वह' दिन भी आया...उनकी आँखों में दिख रहा था की आज वो दिन है... साथ में उनकी आँखों में मुझे कुछ और भी दिखा, एक निवेदन, माँ-बेटे की उस भाषा में जो कोई तीसरा नहीं समझ सकता। 

इस बार मुझे डर था की कहीं ये निवेदन उनकी आँखों में ही न रह जाये। 

मैं उनके इष्ट देव भोले शंकर का रूप धर उनके सामने आया। माँ के चेहरे पर मुस्कान आ गयी और उन्होंने मुझे नमन किया। आज पहली बार जैसे इस बहरूपिए की कला को माँ का आशीर्वाद मिला हो। फिर तो जैसे मुझमे साक्षात कोई दिव्य शक्ति आ गयी, मैं एक के बाद एक रूप बदलने लगा। कमरे के बाहर कर्मचारियों और मरीजों की भीड़ लग गयी। कभी राम जी, तो कभी गाँव के प्रधान जी, यूँ डाकिया तो झट से थानेदार…जाने कितने रूप बदले मैंने। मुझे उनका निवेदन याद था बस मैं टाल रहा था क्योकि मुझे डर था की वह बात पूरी होते ही शायद आज का यह बहरूपिये का खेल ख़त्म हो जाये। 

माँ बिना शिकायत इत्मीनान से मेरे सभी रूप देखती रहीं, जब मेरा हर स्वांग ख़त्म हो गया तो भरे मन से मैंने अपना आखरी स्वांग धरा। मैंने अपने ही पिता जी का रूप धरा और किसी तरह अपना रुदन दबाकर कमरे में घुसा। उनके चेहरे पर तेज आ गया और वो अपनी बची-खुची शक्ति जुटाकर मेरे पैरों  में पड़ गयी। मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैं छोटे बच्चे की तरह विलाप करने लगा, माँ से लिपटकर रोने लगा। जब पकड़ ढीली हुयी तो लगा की उनका शरीर शिथिल पड़ चुका है और उनके चेहरे पर शान्ति है। माँ को भी पता था की मुझसे उनकी प्रार्थना समझने में कोई भूल नहीं हुयी है। 

समाप्त! 

- मोहित शर्मा (ज़हन)

Notes

*) - Won 'Manthan Competition' jointly organized by Kalamputra Magazine (Hapur), Amar Bharti Paper and Bhavdiye Prabhat - Meerut, U.P. (pics update soon).

*) - Prince Ayush working on a short video on this concept.

Wednesday, June 25, 2014

June 2014 Logs - Mohit Sharma Trendster

1) - Published Books/Works


*) - Naripana

-----------------------


*) - Infra Surkh Shayars (Vol. 1)

---------------------


*) - 19 Minus 

-------------------------


*) - RD Magazine (June 2014) Cover Story

-------------------


*) - Stunt Girl

-----------------------------

2) - Invitational Mini Webinars & Podcasts



Started creative webinars and podcasts on Google Hangout on themes like collaborations, haiku, Fan Fiction, Online Publishing etc.

---------------------------

3) - Scenes, Videos and Songs


Excited to work with talented actors, singers and musicians. Awesomeness! update coming soon!

- Mohit Sharma (Trendster / Trendy Baba)